काम की बात : बैंकों की Fixed Deposit में भी है रिस्क, निवेश करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान


नई दिल्ली . निश्चित तौर पर अधिकतर लोगों के लिए फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) हमेशा निवेश का लोकप्रिय ऑप्शन रहा है. इसका कारण यह है कि इसमें न केवल सुनिश्चित रिटर्न मिलता, बल्कि जोखिम भी कम होता है. फिक्स्ड डिपॉजिट मोटे तौर पर दो प्रकार के होते हैं. इनमें से बैंकों की एफडी सबसे अधिक लोकप्रिय है, वहीं दूसरी कॉर्पोरेट फिक्स्ड डिपॉजिट है.

कॉर्पोरेट फिक्स्ड डिपॉजिट में उच्च ब्याज की पेशकश की जाती है. हालांकि, बैंकों की तुलना में उसमें बहुत अधिक रिस्क रहता है. फिक्स्ड डिपॉजिट पर रिटर्न के मामले में निवेशक बहुत स्पष्ट होते हैं. हालांकि इससे जुड़े रिस्क के बारे में अधिकतर लोगों को अभी भी पता नहीं है. आपको उन रिस्क के बारे में जानना बहुत जरूरी है. अन्यथा आप अपनी कड़ी मेहनत से जोड़ी गई रकम के लिए मोहताज हो जाएंगे. तो आइए, यहां फिक्स्ड डिपॉजिट से संबंधित रिस्क के बारे में जानते हैं.

ये भी पढ़ें- हर महीने लेना है 5000 रुपये रिटर्न तो करें पोस्‍ट ऑफिस की इस योजना में निवेश

पूरी तरह सुरक्षित नहीं

आमतौर पर लोग बैंक एफडी को पूरी तरह सुरक्षित मानते हैं. वैसे तो, एफडी में रकम सुरक्षित रहती है, लेकिन अगर बैंक किसी तरह डिफॉल्ट कर जाए, तो निवेशकों की सिर्फ 5 लाख तक डिपॉजिट ही सेफ रहती है. फाइनेंस कंपनियों पर भी यही नियम लागू है. डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉर्पोरेशन (DICGC) बैंक डिपॉजिट पर सिर्फ 5 लाख रुपये तक का ही इंश्‍योरेंस गारंटी देता है.

लिक्विडिटी की समस्या

विशेषज्ञों का मानना है कि बैंक एफडी में लिक्विडिटी की समस्या होती है. वैसे, जरूरत पड़ने पर मैच्योरिटी से पहले भी आप एफडी से पैसे निकाल सकते हैं, लेकिन उस पर पेनल्टी देनी पड़ती है. एफडी पर पेनल्टी अमाउंट अलग-अलग बैंकों में अलग-अलग हो सकता है. अगर आपने टैक्स सेविंग एफडी में निवेश किया है, तो आप इसे 5 साल से पहले भी निकाल सकते हैं. हालांकि, तब आपको इनकम टैक्स में छूट का फायदा नहीं मिलेगा.

ये भी पढ़ें- CBDT ने नए टीडीएस प्रावधान को लेकर जारी किया गाइडलाइंस, जानिए डिटेल

महंगाई की तुलना में रिटर्न नहीं

फिक्स्ड डिपॉजिट पर मिलने वाली ब्याज दर पहले से तय होती है. वहीं, महंगाई लगातार बढ़ सकती है. ऐसे में बढ़ती महंगाई की तुलना में एफडी पर मिलने वाला रिटर्न बहुत कम होता है. आजकल हम ऐसा ही देख रहे हैं. पिछले महीने का डेटा देखें, तो महंगाई दर थोड़ी गिरकर 7.04 फीसदी पर टिकी है. इसकी तुलना में फिक्स्ड डिपॉजिट पर ब्याज दर कम मिलती है. इसका मतलब यह हुआ कि आपको निगेटिव रिटर्न मिल रहा है.

टैक्स का बोझ

अगर आप 60 साल से अधिक उम्र के नहीं हैं, तो फिक्स्ड डिपॉजिट की ब्याज आय पूरी तरह से कर योग्य (Taxable Income) हो सकती है. सीनियर सिटीजन को 50,000 रुपये तक की ब्याज आय पर छूट है. आपकी ब्याज आय को आपकी आय के साथ जोड़कर आपके स्लैब के अनुसार कर लगाया जाता है. यही वजह ​है कि अगर आप 30 फीसदी टैक्स स्लैब में हैं, तो एफडी से मिलने वाला 7 फीसदी ब्याज प्रभावी रूप से आपको केवल 4.9 फीसदी रिटर्न प्रदान कर सकता है.

Tags: Bank, Business news in hindi, Fixed deposits



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.