मार्केट में 5 फीसदी गिरावट, लेकिन 200 से अधिक स्मॉल-कैप स्टॉक 10-29 फीसदी पिट गए


नई दिल्ली . शेयर मार्केट में भारी अथल-पुथल के बीच आप अपने पोर्टफोलियो को जरूर देखते होंगे. आपने गौर किया होगा कि आपके पोर्टफोलियो में शामिल लार्ज-कैप और मिड-कैप की तुलना में स्मॉल-कैप स्टॉक के रिटर्न ने उसे बहुत अधिक हल्का कर दिया होगा. पिछले वित्त वर्ष 2021-22 में छोटे शेयरों (Small cap Shares) ने निवेशकों को 36.64 फीसदी तक का रिटर्न दिया था. इस तरह छोटी कंपनियों के शेयरों ने रिटर्न देने के मामले में सेंसेक्स और निफ्टी को पीछे छोड़ दिया था. वहीं, हफ्ते मार्केट में 5 फीसदी से ​अधिक की गिरावट की तुलना में स्मॉल-कैप स्टॉक को भारी नुकसान उठाना पड़ा है.

इस हफ्ते 200 से ज्यादा स्मॉल-कैप शेयरों में 10 से 29 फीसदी तक की गिरावट आई है. इनमें सद्भाव इंजीनियरिंग, मास्टेक, केबीसी ग्लोबल, मैंगलोर रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल्स, नेटवर्क 18 मीडिया एंड इंवेस्टमेंट्स, ब्राइटकॉम ग्रुप, औरियनप्रो सॉल्यूशंस और नवकार कॉर्पोरेशन शामिल हैं. सद्भाव इंजीनियरिंग में 28.64 फीसदी, जबकि मास्टेक ने 23.93 फीसदी गिरावट हुई. इसी प्रकार अधिकतर अन्य स्मॉल-कैप शेयरों का भी ऐसा ही हाल रहा है. हालांकि, रैमको सिस्टम, अपार इंडस्ट्रीज, वीआईपी इंडस्ट्रीज, बीएलएस इंटरनेशनल सर्विसेज, एफआईईएम इंडस्ट्रीज, टीटीके हेल्थकेयर जैसे स्टॉक ने 5-19 फीसदी की बढ़त हासिल की है.

ये भी पढ़ें- Stock market : विदेशी निवेशकों ने इस साल रिकॉर्ड 2 लाख करोड़ रुपये निकाले, अब क्या करें निवेशक?

मिड-कैप शेयर भी प्रभावित

बाजार में गिरावट के इस दौर में स्मॉल-कैप ही नहीं, बल्कि कई मिड-कैप स्टॉक को भी भारी गिरावट का सामना करना पड़ा है. इन स्टॉक में आरबीएल बैंक, ऑयल इंडिया, जेएसडब्ल्यू एनर्जी, केनरा बैंक, एम्फेसिस लिमिटेड, आदित्य बिड़ला फैशन एंड रिटेल, बजाज होल्डिंग्स एंड इनवेस्टमेंट, जिंदल स्टील एंड पावर, भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स, क्रिसिल और वोडाफोन आइडिया शामिल हैं. इनमें 10 से 28 फीसदी तक की गिरावट आई है.

ये भी पढ़ें- विजय शेखर शर्मा ने कौड़ियों के भाव खरीदा Paytm का स्टॉक, 2 दिनों में 1.72 लाख शेयर उठाए

सबसे खराब सप्ताह

एंजल वन (Angel One) के चीफ एनालिस्ट (टेक्निकल एंड डेरिवेटिव्स) के समीत चव्हाण ने मनीकंट्रोल को बताया कि इस कैलेंडर वर्ष में यह सप्ताह भारतीय शेयर मार्केट के लिए सबसे खराब था. निफ्टी पिछले 12 महीने के सबसे निचले स्तर पर बंद हुआ है.यह भयानक दौर कब समाप्त होगा, इसके बारे में कोई नहीं जानता. जब तक वैश्विक मोर्चे पर कुछ ठोस राहत नहीं मिलती, तब तक सुधार की गुंजाइश नहीं दिखती. ऐसे हालात में पॉजिशन हल्का रखना ही बेहतर है.

Tags: Share market, Stock Markets, Stock tips



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.