22 साल बाद बजाज ऑटो करेगी शेयर Buyback का ऐलान, शेयरहोल्डर्स को मिलेगा लाभ


नई दिल्ली. ऑटो सेक्टर की दिग्गज कंपनी बजाज ऑटो (Bajaj Auto) अगले सप्ताह अपने शेयरहोल्डर्स के लिए बड़ी खबर का ऐलान कर सकती है. दरअसल, कंपनी का बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स अगले सप्ताह सोमवार को शेयर बायबैक पर विचार करेगा. उसी बैठक के बाद बायबैक कीमत समेत अन्य डिटेल सामने आने की उम्मीद है. इससे पूर्व कंपनी 22 साल पहले यानी साल 2000 में शेयर बायबैक लेकर आई थी. शेयर बायबैक शेयरहोल्डर्स के लिए फायदेमंद साबित होता है. इसका कारण यह है कि कोई भी कंपनी बायबैक के लिए शेयर की जो कीमत निधारित करती है, वह मौजूदा मार्केट प्राइस से अधिक होती है.

इसी के साथ 27 जून, 2022 ​की इस बैठक में लार्ज-कैप कंपनी का बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स एक्स डिविडेंड (Ex Dividend) पर भी चर्चा करेगा. बता दें कि बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स डिविडेंड के लिए रिकॉर्ड डेट 1 जुलाई, 2022 तय कर चुका है. कंपनी पहले ही वित्त वर्ष 2021-22 के लिए 140 रुपये (1400 फीसदी) के डिविडेंड की घोषणा कर चुकी है. हालांकि इस पर शेयरहोल्डर्स की मुहर लगनी अभी बाकी है. इसके शेयर की फेस वैल्यू 10 रुपये प्रति शेयर है. बजाज ऑटो लिमिटेड ने शेयर बायबैक की जानकारी भारतीय शेयर मार्केट को दी है. कंपनी ने मार्केट को सौंपे ​गए दस्तावेज में कहा है कि कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स की बैठक में अन्य बातों के साथ शेयर बायबैक के प्रस्ताव पर विचार-विमर्श होगा.

ये भी पढ़ें- राकेश झुनझुनवाला की Akasa एयर अगले महीने भरेगी उड़ान, जल्‍द शुरू होगी टेस्टिंग

डिविडेंड 30 जुलाई को
एनुअल जनरल मी​टिंग (AGM) में शेयरहोल्डर्स की अनुमति मिलने के बाद वित्त वर्ष 22 के लिए घोषित डिविडेंड शेयरहोल्डर्स के अ​काउंट में 30 जुलाई, 2022 या उसके आसपास क्रेडिट हो जाएंगे. बजाज ऑटो कंपनी 2008 से अपने निवेशकों ​को डिविडेंड दे रही है. कंपनी हर साल कंपनी डिविडेंड की रकम बढ़ा देती है. वित्त वर्ष 2008 में कंपनी ने 20 रुपये प्रति शेयर की दर से डिविडेंड का ऐलान किया था, जबकि वित्त वर्ष 2022 में कंपनी ने 140 रुपए प्रति डिविडेंड का ऐलान किया था.

ये भी पढ़ें- वीकली मालामाल: 5 शेयरों ने दिया सबसे अधिक रिटर्न, आई ताबड़तोड़ वॉल्यूम

क्या है शेयर बायबैक?
जब कोई कंपनी खुले मार्केट में मौजूद शेयरों की संख्या को कम करने के लिए उन्हें खरीदती है, तो इस प्रक्रिया को शेयर बायबैक कहते हैं. कंपनियां कई कारणों से शेयरों को वापस खरीद सकतीं हैं. इनमें शेयरों की सप्लाई कम करके उपलब्ध शेष शेयरों के मूल्य में वृद्धि करना या अन्य शेयरहोल्डर्स को नियंत्रित हिस्सेदारी लेने से रोकना शामिल है. आपको बता दें कि इससे पहले बजाज ऑटो 2000 में शेयर बायबैक लेकर आई थी. उस दौरान शेयरहोल्डर्स ने 18 मिलियन इक्विटी शेयरों के बायबैक की मंजूरी दी थी. साथ ही प्रत्येक शेयर की कीमत 400 रुपये तय की गई थी.

Tags: Bajaj Group, Business news in hindi, Shares



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.