Cow Dung: किसानों की बढ़ेगी आमदनी, अब गाय-भैंस का दूध ही नहीं गोबर भी खरीदेगी एनडीडीबी


हाइलाइट्स

नेशनल डेरी डेवलपमेंट बोर्ड की कंपनी अब दूध के साथ ही गोबर भी खरीदेगी.
इस गोबर से बिजली बनेगी, गैस निकलेगी और जैविक खाद भी बनाई जाएगी.
इस योजना पर आधारित पहला प्लांट उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लग रहा है.

नई दिल्ली. किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए एक और नई पहल की गई है. गाय भैंस पालने वाले और दूध के कारोबार से जुड़े किसानों के लिए ये अच्छी खबर है. नेशनल डेरी डेवलपमेंट बोर्ड (National Dairy Development Board) की कंपनी अब दूध के साथ ही गोबर भी खरीदेगी. गाय भैंस के इस गोबर का कई सारे कामों में इस्तेमाल किया जाएगा. जैसे- इस गोबर से बिजली बनेगी, गैस निकलेगी और जैविक खाद भी बनाई जाएगी. मतलब जो गोबर बेकार हो जाता था, अब वो भी किसानों को पैसा (earn money) देकर जाएगा.

केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला ने इस काम को आगे बढ़ाने के लिए एनडीडीबी की एक सब्सिसिडयरी कंपनी एनडीडीबी मृदा लिमिटेड की शुरूआत की. इसी कंपनी के द्वारा किसानों से गोबर खरीदा जाएगा. कंपनी इससे बिजली, गैस और जैविक खाद बनाने में इस्तेमाल करेगी.

यह भी पढ़ें- PM Kisan Yojana: अगर 6 दिन के भीतर नहीं कराया eKYC तो नहीं मिलेंगे 12वीं किस्‍त के 2000 रुपये

टेस्ट सफल रहा है इसका
कंपनी की शुरुआत के मौके पर रूपाला ने कहा कि एनडीडीबी मृदा लिमिटेड डेयरी किसानों को घोल/गोबर की बिक्री से अतिरिक्त आय के रास्ते खोलेगी. इस नई पहल से गोबर गैस मिलेगी, जिससे घरों में खाना बनेगा. घर में ही बायोगैस मिलने से किसानों का ईंधन के मद में होने वाले खर्च की बचत होगी. इस परियोजना को व्यापक रूप से शुरु करने से पहले इसका छोटे स्तर पर टेस्ट किया जा चुका है. गुजरात में आणंद के पास जकरियापुरा और मुचकुआ गांव में परीक्षण किया जा चुका है. वहां परीक्षण सफल पाया गया.

यह भी पढ़ें- ITR भरने के अंतिम दिन बैंकों में छुट्टी, क्या हैं इसके मायने? आपके लिए क्या रहेगा सबसे अच्छा

“सुधन”
इस प्रोडक्ट का कारोबार “सुधन” के नाम से किया जाएगा. एनडीडीबी ने गोबर आधारित जैविक खाद को एक सामान्य पहचान प्रदान करने के लिए “सुधन” नामक एक ट्रेडमार्क भी पंजीकृत किया है. एनडीडीबी के अध्यक्ष मीनेश शाह ने इस प्रयोग पर कहा है कि इससे मल्टीपल फायदा देखा जा रहा है. एनडीडीबी मृदा लिमिटेड डेयरी संयंत्रों के लिए खाद मूल्य श्रृंखला, बायोगैस आधारित सीएनजी उत्पादन और बायोगैस आधारित ऊर्जा उत्पादन की स्थापना करेगी. इस योजना पर आधारित पहला प्लांट उत्तर प्रदेश के वाराणसी में लग रहा है.

Tags: Business opportunities, Earn money, Farmer, Farmer Income Doubled, Milk



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.