Investment Tips : क्‍या है वैल्‍यू इन्‍वेस्टिंग, जिसने 18 साल में 10 लाख को बना दिए ढाई करोड़ रुपये, एक्‍सपर्ट से समझें


हाइलाइट्स

वैल्‍यू इन्‍वेस्टिंग आपके पैसे पर तगड़ा रिटर्न दिलाने का सबसे सटीक जरिया है.
आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल वैल्यू डिस्कवरी फंड ने 19.7 फीसदी रिटर्न दिया है.
वैल्यू फंड में निवेश करते समय धैर्य का बहुत महत्व होता है.

नई दिल्‍ली. शेयर बाजार हो या म्‍यूचुअल फंड, निवेशका का एक ही मकसद होता है कि उसके पैसों पर बंपर रिटर्न मिले. वैल्‍यू इन्‍वेस्टिंग आपके पैसे पर तगड़ा रिटर्न दिलाने का सबसे सटीक जरिया है. दुनिया के दिग्‍गज निवेशक वॉरेन बफे इस विधा के बड़े खिलाड़ी भी हैं.

वैल्‍यू इन्‍वेस्‍ट, दरअसल ऐसी कंपनियों के स्‍टॉक को खोजना होता है जो अपने वास्‍तविक मूल्‍य से कम कीमत पर ट्रेड कर रहा हो. यानी कंपनी की स्‍ट्रांग पोजिशन को देखते हुए उसके शेयर जिस ऊंचाई होने चाहिए, ट्रेडिंग उससे नीचे हो रही होती है. ऐसे स्‍टॉक में पैसे लगाने पर लांग टर्म में तगड़ा रिटर्न मिलने का फुल चांस रहता है.

ये भी पढ़ें – Edible Oil Price: राहत भरी खबर, खाने के तेल के भाव में आई गिरावट, जानिए लेटेस्ट रेट्स

मनी मैनेजमेंट इंडिया ने मॉर्निंगस्‍टार के उपलब्‍ध आंकड़ों के आधार पर एक रिपोर्ट में बताया है कि देश में ज्‍यादातर इक्विटी फंड विकास आधारित हैं. इसका मतलब यह हुआ कि इन फंडों में पैसे लगाने वाले निवेशकों को लाभ मिला है. आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल वैल्यू डिस्कवरी फंड ने भी अपनी शुरुआत से अब तक तगड़ा रिटर्न दिया है.

20 फीसदी के आसपास रहा रिटर्न
आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल वैल्यू डिस्कवरी फंड की शुरुआत (16 अगस्त, 2004) में अगर किसी ने 10 लाख रुपये का निवेश किया होता तो 31 जुलाई, 2022 को उसका कॉपर्स करीब 2.5 करोड़ रुपये का होता. इन 18 सालों में इस फंड का ए एयूएम बढ़कर 24,694 करोड़ रुपये पहुंच गया. ये वैल्‍यू कैटेगरी में कुल एयूएम का 30 फीसदी हिस्‍सा है. इस दौरान सालाना रिटर्न करीब 19.7 फीसदी रहा, जबकि निफ्टी 50 ने समान अवधि के निवेश पर 15.6 फीसदी का रिटर्न दिया है. वहां 10 लाख रुपये लगाने पर 31 जुलाई तक कुल 1.30 करोड़ रुपये ही मिलते.

एसआईपी के लिए जबरदस्‍त विकल्‍प
वैल्यू इन्वेस्टिंग लांग टर्म में तगड़ा रिटर्न दिलाता है, इसलिए यह सिप के जरिये निवेश करने वालों के लिए जबरदस्‍त विकल्‍प बन सकता है. इसे ऐसे समझें कि फंड की स्थापना के बाद अगर किसी ने एसआईपी के माध्यम से 10,000 रुपये मासिक निवेश किया होता तो अभी तक उसकी कुल निवेश की गई राशि 21.6 लाख रुपये होती. लेकिन, 31 जुलाई 2022 तक यह राशि 17.3 फीसदी सालाना की दर से बढ़कर 1.20 करोड़ रुपये पहुंच जाती.

करोड़पति बन जाएगा धैर्य रखने वाला
फंड का प्रबंधन करने वाले आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल एएमसी के ईडी और सीआईओ एस नरेन का कहना है कि वैल्यू फंड में निवेश करते समय धैर्य का बहुत महत्व होता है, क्योंकि बाजार के ऐसे फेज होंगे जब मूल्य कमजोर होगा. इसलिए, निवेशकों को धैर्य रखने और निवेश में बने रहने की आवश्यकता होगी और जब चक्र बदल जाता है, तो इतिहास गवाह है कि धैर्य का भरपूर लाभ मिलता है. वैल्यू उन सेक्टर्स में निवेश करने पर केंद्रित होता है जो आउट ऑफ फ़ेवर हैं लेकिन उनमें लांग टर्म संभावनाएं काफी ज्‍यादा हैं.

इसके अलावा म्यूचुअल फंड का चयन करते समय निवेशकों को एएमसी और व्यक्तिगत फंड के निवेश के प्रदर्शन और तरीके को समझने की जरूरत है. इससे उन्हें यह पता चल जाएगा कि बाकी फंडों की तुलना में यह फंड कब और कैसा प्रदर्शन करेगा, पर ऐसा करना आसान नहीं होता है. इंडस्ट्री वैल्यू इन्वेस्टिंग जैसे शब्दों का बहुत ही कम इस्तेमाल करती है.

Tags: Investment tips, Mutual funds, Share market



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.