RBI ने नहीं बढ़ाया CRR, बैंकों के शेयर्स में तेजी की संभावना, कौन-सा स्टॉक सबसे अच्छा?


नई दिल्ली. बुधवार को आरबीआई की पॉलिसी रेट अथवा रेपो रेट तो बढ़ा दिए, लेकिन कैश रिजर्व रेश्यो (CRR) में कोई बदलाव नहीं किया. इसका सीधा असर पॉलिसी की घोषणा खत्म होने के साथ ही बैंकिंग सेक्टर के शेयर्स पर दिखा. सुबह लगभग सभी बैंक लाल निशान में ट्रेड हो रहे थे, मगर कुछ ही देर में सभी शेयर ऊपर की तरफ भागने लगे. हालांकि दोपहर 12 बजे के बाद एक बार फिर बैंकिंग शेयरों में बिकवाली शुरू हो गई.

बैंक निफ्टी तो दोपहर बाद फिर नेगेटिव हो गया, लेकिन पब्लिक सेक्टर बैंक्स ने तीन बजे तक भी अच्छी बढ़त बनाए रखी. PSU Banks में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ बड़ौदा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र और केनरा बैंक ने अच्छी रैली दिखाई. प्राइवेट बैंक्स की बात करें तो कारोबारी सेशन के खत्म होने तक HDFC बैंक ही अच्छी बढ़त बरकरार रख पाया.

ये भी पढ़ें – Rapo Rate Hike: होम और ऑटो लोन पर अब कितना ज्‍यादा देना होगा ब्‍याज? कितनी बढ़ेगी ईएमआई?

कैसे है बैंकों के लिए अच्छी खबर
बाजार के जानकारों का कहना है कि रेपो रेट बढ़ाने और CRR में कोई बढ़ोतरी न करने का आरबीआई का फैसला बैकिंग सेक्टर को पसंद आया है. एनालिस्ट का कहना है कि यह एक अच्छी बात है कि आरबीआई ने ग्रोथ की संभावना को पूरी तरह से नहीं नकारा है. महंगाई घटती है तो एक बार फिर हमें ग्रोथ में रफ्तार आती नजर आ सकती है. इस स्थिति में इकोनॉमी में कर्ज की मांग बढ़ती नजर आएगी, जिसका फायदा बैंकिंग सेक्टर को मिलेगा.

बैंकों के लिए विन-विन सिचुएशन
मनीकंट्रोल की एक खबर के मुताबिक, GCL Securities के रवि सिंघल का कहना है कि आज की आरबीआई के पॉलिसी के ऐलान में रेपो रेट में 0.50 फीसदी की बढ़ोतरी की गई है और CRR में कोई बदलाव नहीं किया गया है. उम्मीद है कि इससे बैकिंग बिजनेस को फायदा होगा. CRR में बढ़ोतरी न किए जाने से बैकों के पास कर्ज देने के लिए ज्यादा कर्ज होगा. वहीं रेपो रेट में बढ़ोतरी को देखते हुए वह अपनी ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर सकेंगे. यह स्थिति बैकिंग सेक्टर के लिए बेहतर है.

ये भी पढ़ें – RBI Monetary Policy: वित्त वर्ष 2023 में जीडीपी ग्रोथ 7.2 फीसदी रहने का अनुमान

बैंकों के पास लिक्विडिटी बनी रहेगी
Ladderup वेल्थ मैनेजमेंट के राघवेंद्र नाथ का कहना है कि CRR में बढ़ोतरी की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा महसूस होता है कि आरबीआई ने फिलहाल बैकों के पास लिक्विडिटी बनाए रखने का निर्णय लिया है, जिसकी वजह से CRR में बढ़ोतरी नहीं की गई है.

Choice Broking के सुमीत बगड़िया का कहना है कि निफ्टी बैंक वर्तमान में 34,700 – 35,500 के रेंज में घूमता नजर आ रहा है. इसके ऊपरी छोर को तोड़ने के बाद बैंक निफ्टी में 1000 अंकों की बढ़ोतरी और देखने को मिल सकती है. सुमीत बगड़िया का कहना है कि CRR में बढ़ोतरी न करने का निर्णय बैकों को खुश करने वाला है. इसकी वजह से आगे हमें बैंकिंग स्टॉक में तेजी आती नजर आ सकती है.

ये भी पढ़ें – RBI Announcements: रेपो रेट बढ़ाने की घोषणा के दौरान गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहीं ये 10 बड़ी बातें

कौन-से शेयर खरीदना फायदे का सौदा
GCL Securities के रवि सिंघल का कहना है कि आरबीआई पॉलिसी के ऐलान के बाद निवेशकों को अपने पोर्टफोलियो में SBI, ICICI Bank, Axis Bank और HDFC Bank के शेयरों को जोड़ना चाहिए. इनमें अच्छी तेजी देखने को मिल सकती है. रवि सिंघल का कहना है कि जो लोग अपने पोर्टफोलियो में कुछ बैंकिंग स्टॉक जोड़ना चाहते है उनको SBI को पहली वरियता देनी चाहिए. उसके बाद ICICI Bank, Axis Bank और HDFC Bank पर नजर रहनी चाहिए.

(Disclaimer: यहां बताए गए स्‍टॉक्‍स ब्रोकरेज हाउसेज की सलाह पर आधारित हैं. यदि आप इनमें से किसी में भी पैसा लगाना चाहते हैं तो पहले सर्टिफाइड इनवेस्‍टमेंट एडवायजर से परामर्श कर लें. आपके किसी भी तरह के लाभ या हानि के लिए News18 जिम्मेदार नहीं होगा.)

Tags: RBI, Rbi policy, Stock market



Source link

Leave a Comment

Ads Blocker Image Powered by Code Help Pro

Ads Blocker Detected!!!

We have detected that you are using extensions to block ads. Please support us by disabling these ads blocker.